हैल्थ प्रोटोकॉल को लेकर कोई वीआईपी नहीं

मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत ने अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि कोरोना संक्रमण के खतरे को कम से कम करने के लिए 31 मई के बाद भी प्रदेशभर में रात्रिकालीन कफ्र्यू जारी रखा जाए।
• इसमें किसी तरह की शिथिलता नहीं हो। उन्होंने कहा कि
• कंटेनमेंट क्षेत्र का पुनःनिर्धारण एक्टिव केसेज की संख्या के अनुसार किया जाए,
• ताकि केवल संक्रमित क्षेत्र में ही कफ्र्यू जारी रखा जाए।

श्री गहलोत शुक्रवार को मुख्यमंत्री निवास पर कोरोना संक्रमण को लेकर आयोजित उच्च स्तरीय बैठक में समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने कहा कि हैल्थ प्रोटोकॉल की पालना सख्ती से हो।
• इसमें कोई भी अपना अहम आडे़ नहीं आने दे, चाहे वह वीआईपी ही क्यों न हो।
• उन्होंने अपील की है कि सभी प्रदेशवासी बार-बार हाथ धोते रहें,
• मास्क पहनें और सामाजिक दूरी के नियम की पूरी पालना करें।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रशासन हैल्थ प्रोटोकॉल की सख्ती से पालना के लिए कैमरों सहित अन्य माध्यमों से प्रभावी निगरानी करे। उन्होंने निर्देश दिए कि राजस्थान महामारी अध्यादेश के तहत लागू पैनल्टी एवं जुर्माने के प्रावधानों में किसी तरह की शिथिलता नहीं बरती जाए।
• यह लोगों के जीवन की रक्षा एवं जनस्वास्थ्य के लिए बेहद जरूरी है।
• हैल्थ प्रोटोकॉल की पालना करके ही हम कोरोना की जंग जीत सकेंगे।

जिला अस्पताल से लेकर सब सेंटर तक हो बेहतरीन हैल्थ इन्फ्रास्ट्रक्चर

मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत ने अधिकारियों को निर्देश दिए और कहा कि विश्व स्वास्थ्य संगठन सहित कई विशेषज्ञों ने चेतावनी दी है कि जुलाई-अगस्त माह में कोरोना का दूसरा दौर अधिक संकट पैदा कर सकता है।
• ऎसे में कोविड-19 महामारी की इस चुनौती को एक अवसर के रूप में बदलते हुए
• प्रदेश में जिला अस्पतालों से लेकर सब सेंटर तक मजबूत हैल्थ इन्फ्रास्ट्रक्चर तैयार किया जाए,
• ताकि गांव के लोगों को छोटी-छोटी बीमारियों के इलाज के लिए शहर तक नहीं आना पडे़।
• उन्होंने कहा कि विधायकों से इस संबंध में सुझाव लेकर स्थानीय आवश्यकताओं के अनुरूप चिकित्सा सुविधाएं विकसित की जाएं।

अनुरोध : आप हमारें द्वारा भेजी गयी सूचना से संतुष्ट हो तो लिकं के द्वारा सरकार से जुड़ सकते हैं :
https://sarkaar.co.in/

https://sarkaar.co.in/

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here