ICON

उर्जा विभाग राजस्थान सरकार

By Sarkaar 11-Oct-2021
Slide Images

राज्य सरकार के प्रयासों से कोयले की उपलब्धता में सुधार

राज्य सरकार के प्रयासों से कोयले की उपलब्धता में सुधार देखा जा रहा है। कोल इंडिया से औसतन पांच और विद्युत उत्पादन निगम और अड़ानी के संयुक्त उपक्रम परसाइस्ट व कांटा बेसन से अब कोयले की अधिक रेक डिस्पेच होने लगी है। जहां पहले 12 साढ़े बारह रेक डिस्पेच हो रही थी वह बढ़कर 14 से 15 तक हो गई है। 

मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत के समीक्षा बैठक में दिए गए निर्देशों के अनुसार विद्युत निगम के एक एक्सईएन स्तर के अधिकारी सिंगरोली और एक एसई व एक एक्सईएन स्तर के अधिकारी बिलासपुर में तैनात किए गए हैं और यह अधिकारी कोयला की रेक्स समय पर डिस्पेच कराने के प्रयास कर रहे हैं।

कोटा ताप विद्युत गृह की यूनिट 6 में 195 मेगावाट का उत्पादन शुरु हो गया है। इससे पहले 9 अक्टूबर को कालीसिंध तापीय विद्युत गृह की इकाई 2 में 600 मेगावाट का उत्पादन आरंभ कर दिया गया है। 

  • राज्य में 10 अक्टूबर को विद्युत की उपलब्धता बढ़ी है, 
  • औसत मांग व अधिकतम मांग में कमी आई है। 
  • प्रदेश में 9353 मेगावाट विद्युत की उपलब्धता, 
  • 10639 मेगावाट की ओसत मांग व 
  • 12000 मेगावाट की अधिकतम मांग रही है। 

प्रदेश में रोटेशन के आधार बिजली की कटौती की जा रही है। सूचना एवं जनसंपर्क विभाग व विद्युत निगमों द्वारा बिजली बचत के लिए मीडिया के माध्यम से आमनागरिकों को अवेयर किया जा रहा है।


आप सभी को ध्यान रहे की 

दिल्ली, पंजाब और आंध्रप्रदेश के मुख्यमंत्रियों द्वारा बिजली संयंत्रों में कोयले की कमी का मुद्दा उठाने के बाद केंद्रीय ऊर्जा मंत्रालय ने कोयले के भंडार में कमी के चार कारण बताए हैं। 

  1. बिजली की मांग में अभूतपूर्व वृद्धि, 
  2. सितंबर 2021 के दौरान कोयला खदान क्षेत्रों में भारी बारिश, 
  3. आयातित कोयले की कीमतों में अभूतपूर्व उच्च स्तर की वृद्धि और 
  4. मानसून की शुरुआत से पहले पर्याप्त कोयले का स्टॉक न करना।


कोयले की कमी राष्ट्रीय मुद्दा है !!
भारत सरकार द्वारा कोयले की सप्लाई नही करने तथा बार बार मांग करने के बाद मंत्रालय ने आश्वासन दिया है कि वे 1.6 मीट्रिक टन कोयला भेजने का प्रयास कर रहे हैं और अगले तीन दिनों में एक दिन में 1.7 मीट्रिक टन तक पहुंचने का प्रयास करेंगे। 7 अक्टूबर, 2021 तक, देश के 135 कोयला संयंत्रों में से 110 गंभीर रूप से कम स्टॉक का सामना कर रहे थे, औसतन 4 दिनों के कोयला स्टॉक के साथ 46 संयंत्रों में 0 या 1 दिन का कोयला भंडार है।

अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर कोयला कमी की बात करें तो 

  • चीन में कई फैक्ट्रियां कोयले की आपूर्ति में कमी जुड़ी व्यापक बिजली कटौती के कारण बंद हो गयी।
  • यू.के. में भी ईंधन पंप खाली है और किसी भी तरह की हिंसा को रोकने के लिए देश की सेना को बुलाया गया है। 
  • यूरोप में आपूर्ति के कारण सितंबर से अब तक प्राकृतिक गैस की कीमतों में 130% की वृद्धि हुई है। 

राजस्थान की बात करें तो कुछ राहत की उम्मीद हो सकती है क्योंकि राज्य को छत्तीसगढ़ कोयला खदानों से 7.5 रेक के बजाय 10 कोयला रेक मिलना शुरू हो गए हैं और सीआईएल से एक अतिरिक्त रेक भी।


राजस्थान सरकार से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी प्राप्त करने हेतु “सरकार” से जुड़े : https://sarkaar.co.in/


About Sarkaar

Sarkaar

https://www.sarkaar.co.in
“सरकार” का मुख्य उद्देश्य डिजिटल संचार को बढ़ावा देना है, और साथ ही साथ राजस्थान सरकार के तमाम कामकाज को आम जन के बीच लेकर जाना है। इसके लिए राज्य स्तर पर एक डिजिटल मंच बनाया जा रहा है। जिसमें प्रदेश के विविध क्षेत्रों के लोग जुड़ सकेंगे, यह मंच राज्य सरकार की जनकल्याणकारी योजनाओं, विकास के कार्यों, सूचनाओं, घोषणाओं और जनहित में आदेशों को राज्य के आमजन तक प्रसारित करेगा।
Comments

Leave a Comment