ICON

कृषि विभाग राजस्थान सरकार

By Sarkaar 11-Oct-2021
Slide Images

किसानोपयोगी जानकारी 

  • राज्य सरकार डीएपी(DAP) आपूर्ति बढ़ाने के लिए निरन्तर प्रयासरत, 
  • किसान एसएसपी(SSP) का उपयोग करें 


कृषि मंत्री श्री लालचन्द कटारिया ने कहा है कि राज्य सरकार प्रदेश में डीएपी आपूर्ति में सुधार लाने के लिए निरन्तर प्रयास कर रही है। साथ ही उन्होंने किसानों से विकल्प के तौर पर सिंगल सुपर फॉस्फेट (एसएसपी) एवं एनपीके का उपयोग करने की अपील की है। 

कृषि मंत्री ने बताया कि हमारे देश में डीएपी उर्वरक की आपूर्ति काफी हद तक विदेशी आयात पर निर्भर है। इस साल आयात कम होने से पूरे देश में ही डीएपी की मांग एवं आपूर्ति में अंतर बढ़ गया है, जिससे अन्य राज्यों के साथ ही राजस्थान भी प्रभावित हुआ है। 

केंद्र सरकार ने मांग के बावजूद कम भेजी है DAP
केन्द्र सरकार ने राज्य में इस साल अप्रेल से सितम्बर माह के दौरान 4.50 लाख मैट्रिक टन मांग के विरूद्ध 3.07 लाख मैट्रिक टन डीएपी ही आपूर्ति की। साथ ही अक्टूबर महीने में 1.50 लाख मैट्रिक टन मांग के विरूद्ध 68 हजार मैट्रिक टन डीएपी स्वीकृत की है। 

भारत सरकार द्वारा नही भेजने पर राज्य में डीएपी की कमी हो गई है। फिर भी राज्य सरकार डीएपी की आपूर्ति में सुधार के लिए लगातार प्रयास कर रही है। केंद्र सरकार ने आपूर्ति में सुधार कर डीएपी की कमी को दूर करने के लिए आश्वस्त किया है।


किसानोपयोगी जानकारी DAP खाद के अन्य विकल्प

अतिरिक्त सल्फर के कारण एसएसपी अपेक्षाकृत अधिक लाभदायक
कृषि विभाग किसानों को वैकल्पिक फॉस्फेटिक उर्वरक सिंगल सुपर फॉस्फेट (एसएसपी) एवं एनपीके का उपयोग करने की सलाह दे रहा है, ताकि डीएपी की कमी से संभावित नुकसान से बचा जा सके। उन्होंने बताया कि एसएसपी एक फॉस्फोरस युक्त उर्वरक है, जिसमें 18 प्रतिशत फॉस्फोरस एवं 11 प्रतिशत सल्फर की मात्रा पाई जाती है। इसमें उपलब्ध सल्फर के कारण 
यह उर्वरक तिलहनी एवं दलहनी फसलों के लिए अन्य उर्वरकों की अपेक्षा अधिक लाभदायक होता है। 


एसएसपी डीएपी की तुलना में सस्ता एवं बाजार में आसानी से उपलब्ध
एसएसपी उर्वरक डीएपी की तुलना में सस्ता एवं बाजार में आसानी से उपलब्ध है। प्रति बैग डीएपी में 23 किलोग्राम फॉस्फोरस एवं 9 किलोग्राम नाइट्रोजन पायी जाती है। यदि विभागीय सलाह अनुसार डीएपी के विकल्प के रूप में 3 बैग एसएसपी एवं 1 बैग यूरिया का प्रयोग किया जाता है, तो इससे भी कम मूल्य पर अधिक नाइट्रोजन एवं फॉस्फोरस तथा अतिरिक्त सल्फर प्राप्त किया जा सकता है। इससे 24 किलोग्राम फॉस्फोरस, 20 किलोग्राम नाइट्रोजन एवं 16 किलोग्राम सल्फर मिलता है। उन्होंने बताया कि डीएपी के एक बैग की कीमत 1200 रूपए है, वहीं एसएसपी के 3 बैग की लागत 900 रूपए एवं यूरिया के एक बैग की लागत 266 रूपए सहित कुल 1166 रूपए खर्च होंगे जो डीएपी के खर्चे से कम है। उन्होंने काश्तकारों के मध्य एसएसपी के उपयोग को बढ़ावा देने के लिए विभागीय स्तर पर व्यापक प्रचार-प्रसार करने के भी निर्देश दिए हैं।


राजस्थान सरकार से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी प्राप्त करने हेतु “सरकार” से जुड़े : https://sarkaar.co.in/


About Sarkaar

Sarkaar

https://www.sarkaar.co.in
“सरकार” का मुख्य उद्देश्य डिजिटल संचार को बढ़ावा देना है, और साथ ही साथ राजस्थान सरकार के तमाम कामकाज को आम जन के बीच लेकर जाना है। इसके लिए राज्य स्तर पर एक डिजिटल मंच बनाया जा रहा है। जिसमें प्रदेश के विविध क्षेत्रों के लोग जुड़ सकेंगे, यह मंच राज्य सरकार की जनकल्याणकारी योजनाओं, विकास के कार्यों, सूचनाओं, घोषणाओं और जनहित में आदेशों को राज्य के आमजन तक प्रसारित करेगा।
Comments

Leave a Comment